मंगल ग्रह

मंगल ग्रह

 

मंगल ग्रह के शुभ लक्षण

मंगल ग्रह, मूंगा, red coral, gemstone, Vastu Cosmos ज्योतिष में मंगल को क्रूर ग्रह माना गया है जिसका अर्थ अग्नि के समान लाल है, इसलिए इसे अंगारक भी कहते है | वे स्वतंत्र प्रकृति के तथा अनुशासन प्रिय है | इस ग्रह से प्रभावित जातक सेनाध्यक्ष या राजदूत आदि होते है या उच्च पदों पर कार्य करते है | उनमे नेतृत्व शक्ति विशेष होती है | वे निडर होते है, किसी भी प्रकार का जोखिम ले सकते है | खिलाडी, वायुसेना, थलसेना, नौसेना के अध्यक्ष तथा उच्च पदों पर आसीन राजनीतिज्ञ मंगल से प्रभावित माने जाते है |

दूषित या नीच मंगल के लक्षण

विवाह और वैवाहिक जीवन में मंगल का अशुभ प्रभाव सबसे अधिक दिखाई देता है.मंगल दोष जिसे मंगली के नाम से जाना जाता है इसके कारण कई स्त्री और पुरूष आजीवन अविवाहित ही रह जाते हैं. शुभ मंगल, मंगलकारी और अशुभ मंगल, अमंगलकारी कार्य करवाते है | मंगल शक्ति, साहस, क्रोध, युद्ध, दुर्घटना, षड़यंत्र, बीमारियों, विवाद, भूमि सम्बन्धी आदि कार्यो का कारक ग्रह है | मंगल तांबे, खनिज पदार्थो , सोने, मूंगे, हथियार, भूमि आदि का प्रतिनिधित्व करता है | मंगल पित्त कारक है। यह अत्यंत उग्र है एवं उत्तेजना पैदा करता है। यह सिर, मज्जा, पित्त, हीमोग्लोबिन तथा गर्भाशय का नियमन करता है। अत: इससे संबंधित सभी रोग मंगल के प्रकोप से होते हैं। मंगल दुर्घटना, चोट, मोच, जलन, शल्यक्रिया, उच्चरक्तचाप, पथरी, हथियारों एवं विष से क्षति देता है।मंगल के कारण ही गर्मी के रोग, विषजनित रोग, व्रण, कुष्ठ, खुजली,रक्त सम्बन्धी रोग, गर्दन एवं कण्ठ से सम्बन्धित रोग,रक्तचाप, मूत्र सम्बन्धी रोग, ट्यूमर, कैंसर, पाइल्स, अल्सर,दस्त, दुर्घटना में रक्तस्त्राव, कटना, फोड़े-फुन्सी, ज्वर,अग्निदाह, चोट इत्यादि बीमारियां/रोग होते हैं |

नीच मंगल के दोष को समाप्त करने के लिए रत्न – मूंगा

मंगल ग्रह, मूंगा, red coral, gemstone, Vastu Cosmos
                       मूंगा

भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार मूंगा मंगल ग्रह का रत्न है मंगल ग्रह ऊर्जा, जीवन शक्ति, रक्त परिसंचरण और महत्वाकांक्षा का ग्रह है, और मूंगा कुंडली में मंगल ग्रह की ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए पहना जाता है। यह लाल रंग का मूंगा एक बहुमूल्य रत्न है 9 ग्रहों के ग्रहों के पदानुक्रम में, मंगल युद्ध का देवता है और परमेश्वर की सेनाओं का कमांडर है। जिन लोगों की कुण्डली में मंगल पापी होकर अशुभ फल दे रहा होता है, उसे नियंत्रित करने के लिए मूंगा धारण करना चाहिए। मूंगा एक ऐसा रत्न है, जिसे धारण करने से अनेको प्रकार के लाभ प्राप्त होते है। पुलिस, आर्मी, डाक्टर, प्रापर्टी का काम करने वाले, हथियार निर्माण करने वाले, सर्जन, कम्प्यूटर साप्टवेयर हार्डवेयर इन्जीनियर आदि लोगों को मूॅगा पहनने से विशेष लाभ होता है। अगर किसी बच्चे को आलस्य बहुत सता रहा है तो उसे मूगा पहनाने से उसका आलस्य दूर भाग जाता है। यदि किसी व्यक्ति को रक्त से सम्बन्धित कोई दिक्कत है तो उसे मूंगा पहनने से फायदा मिलता है। मिर्गी तथा पीलिया रोगियों के लिए मूंगा पहनना अत्यन्त हितकारी साबित होता है।

मूंगा धारण करने की विधि


यदि आप मंगल देव के रत्न, मुंगे को धारण करना चाहते है, तो 5.25 से 8 कैरेट के मुंगे को स्वर्ण या ताम्बे की अंगूठी में जड्वाकर किसी भी शुक्ल पक्ष के किसी भी  मंगलवार को सूर्य उदय होने के पश्चात् इसकी प्राण प्रतिष्ठा करे! इसके लिए सबसे पहले अंगुठी को दूध,,,गंगा जल शहद, और शक्कर के घोल में डाल दे, फिर पांच अगरबत्ती मंगल देव के नाम जलाए और  प्रार्थना करे कि हे मंगल देव मै आपका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आपका प्रतिनिधि रत्न मुंगा धारण  कर रहा हूँ कृपया करके मुझे अपना आशीर्वाद प्रदान करे ! अंगूठी को निकालकर 108 बारी अगरबत्ती के ऊपर से घुमाते हुए  क्रां क्रीं क्रौं : भौमाये नमः | 108 बारी का जाप करे तत्पश्चात अंगूठी  हनुमान जी के चरणों से स्पर्श कराकर मध्यमा ऊँगली में धारण करे! मंगल के अच्छे प्रभावों को प्राप्त करने के लिए उच्च कोटि का जापानी या इटालियन मुंगा ही धारण करे, मुंगा धारण करने के 9 दिनों में प्रभाव देना आरम्भ कर देता है और लगभग 2 वर्ष तक पूर्ण प्रभाव देता है और फिर निष्क्रिय हो जाता है ! निष्क्रिय होने के बाद पुन: नया मुंगा धारण करे ! मुंगे का रंग लाल और दाग रहित होना चाहिए , मुंगे में कोई दोष नहीं होना चाहिए अन्यथा शुभ की जगह अशुभ फल दे सकता है

ध्यान रहे  मंगल के रत्न मूंगा के साथ हीरा, नीलम और गोमेद पहनना खतरनाक होता है। क्योंकि ये तीनों रत्न मंगल के विरोधी ग्रहों के हैं।

असली एवं शुद्ध अभिमंत्रित किया हुआ मोती हम से भी खरीद सकते हैं , अन्यथा निशुल्क परामर्श भी कर सकते हैं |

अन्य आध्यात्मिक जानकारी के लिए हमें फेसबुक और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें

Summary
मंगल ग्रह
Article Name
मंगल ग्रह
Description
मंगल ग्रह, मूंगा, red coral, gemstone, Vastu Cosmos ज्योतिष में मंगल को क्रूर ग्रह माना गया है जिसका अर्थ अग्नि के समान लाल है, इसलिए इसे अंगारक भी कहते है | वे स्वतंत्र प्रकृति के तथा अनुशासन प्रिय है | इस ग्रह से प्रभावित जातक सेनाध्यक्ष या राजदूत आदि होते है या उच्च पदों पर कार्य करते है | उनमे नेतृत्व शक्ति विशेष होती है | वे निडर होते है, किसी भी प्रकार का जोखिम ले सकते है | खिलाडी, वायुसेना, थलसेना, नौसेना के अध्यक्ष तथा उच्च पदों पर आसीन राजनीतिज्ञ मंगल से प्रभावित माने जाते है |
Author
Publisher Name
Vastu Cosmos
Publisher Logo

Have a query related to Vastu ?